Total Pageviews

Saturday, September 24, 2011

मौत का लाभप्रद कारोबार

मौत का लाभप्रद कारोबार
मेरा शहर आजकल शूटिंगरेंज बना हुआ है ,जहाँ जांबाज़ शूटर आते हैं और किसी भी जीवित आदमी पर अपनी निशानेबाजी को आजमाते हैं और जिस रास्ते से इच्छा होती है मज़े से टहलते हुए निकल जाते हैं|एक पंथ दो काज ,निशानेबाजी का अभ्यास भी हो जाता है और सेहत के लिए मुफीद मॉर्निंगवाक भी |मानना होगा कि मेरा शहर धनार्जन के लिए हत्याकर्म करने वालों के लिए एक अभयारण्य बन गया है |मौत के कारोबार में इतनी अधिक प्रतिभाओं का प्रादुर्भाव रोमांचित करता है |जहाँ देखो मौत का धूमधडाका है|रक्तरंजित सड़कें है ,चीखपुकार है ,थ्रिल है ,सुनने सुनाने के लिए दुस्साहस भरे किस्से हैं |पूर्ण सत्य पर आधारित मौत से साक्षात्कार का लाइव टेलिकास्ट है |मारधाड से भरपूर ये दृश्यावली हालीवुड के फिल्म निर्देशकों तक को शर्मिन्दा कर सकती है |बालीवुड इनसे प्रेरणा हांसिल कर सकता है |ऐसा रचनात्मक समय है यह कि मसाला फिल्मों के लिए अकूत कच्चा माल उपलब्ध है|ऐसी नायाब परिस्थितियों के मध्य भी यदि कोई ब्लाकबस्टर या बेस्टसेलर रचने से चूकता है तो ये उसकी दुर्भाग्य, अदूरदर्शिता या फिर कर्महीनता ही माना जायेगा |सकल पदारथ है जग माहीं,कर्महीन नर पावत नाहीं|
एक बात एकदम स्पष्ट है कि कोई मेरे इस शहर पर कर्महीनता का लांछन तो कम से कम अब नहीं लगा सकता|मृत आत्माओं को छोड़ कर सभी इस आरोप के दायरे से बाहर हैं|हत्यारे अपना कर्म बखूबी कर रहे हैं |पुलिस सबूत एकत्र करने के काम से लेकर निर्जीव शरीर के पंचनामा करने तक का काम पूर्ण तन्मयता से कर रही है |पोस्टमार्टम पूरी प्रोफेशनल निपुणता के साथ हो रहे हैं |मृतक के सभी इष्टमित्र ,सगे सम्बन्धी ,सहयोगी विलाप करने का काम बखूबी कर रहे हैं |तमाम सामाजिक संघटन शासन प्रशासन को कोसने के काम में अपनी अपनी मुखर अभिव्यक्ति का सर्वोत्तम प्रदर्शन कर रहे हैं |एक से बढ़ कर एक शोक सन्देश लिखे और लिखवाये जा रहे हैं |खबरनवीस ओवर टाइम कर रहे हैं |उनके सामने खुद को साबित करने की विकट चुनौती है पत्रकारिता में अपना कैरीयर चमकाने का ऐसा दुर्लभ अवसर बड़ी कठनाई से उपलब्ध हुआ करता है |अपराध की दुनिया में गहरी पैठ रखने वाले टिप्पड़ीकारों , सिद्धांतकारों और मुखबिरों के बाज़ार भाव में अनायास ही उछाला आ गया है |
मेरे शहर में जिसे देखो वही शूटरों का रण कौशल देख कर मुग्ध है |वे किस खूबी से दबे पाँव आते है अपने काम को अंजाम देते हैं और बेदाग निकल जाते हैं |उनकी निपुणता घात लगा कर चूहे को दबोचने वाली चालाक बिल्ली ,उड़ते हुए पतंगे को उदरस्थ करने के लिए प्रकाश की गति से भी तीव्र गति से अपने जीभ लपलपाने वाले गिरगिट और विधुत गति से हमला करके शिकार को संभलने तक का अवसर न देने वाले तेंदुए तक के आखेट करने के कौशल पर प्रश्नचिन्ह लगानेवाली है |एक बात तय है कि मौत परोसने के इस कारोबार में जोखिम न्यूनतम और ग्लेमर भरपूर है |इस क्षेत्र में एकबार नाम हो गया और आपने खुद को एक ब्रांड के रूप में स्थापित कर लिया तब तो रियलस्टेट ,के मुनाफे से भरे व्यवसाय में बिना किसी श्रम,बौद्धिक चातुर्य और पूँजी निवेश के आपकी हिस्सेदारी का होना निश्चित है |रंगदारी के धंधे से जो नियमित आमदनी होगी वो अलग |यदि भाग्यादेवी मेहरबान हुई तो आपको किसी माफिया की भूतपूर्व प्रेमिका ,किसी सेलिब्रिटी चोर ,बहुप्रशंसित लफंगे या या किसी स्वयंभू डार्लिंग के साथ बिगबॉस जैसे किसी रियल्टी शो में अपनी अभिनय क्षमता का देशव्यापी प्रदर्शन का अवसर भी मिल सकता है .हो तो यह भी सकता है कि आप अपने खौफ ,रसूख और सम्पन्नता के प्रदर्शन के चलते राजनीति के आकाश का ऐसा चमकता सितारा बन जाएँ ,जिसकी चमक में सारे राजनीतिक अवधारणाएँ ही निरस्त हो जाती हैं |संभावनाएं अनंत हैं |कर्मवीर नरों का वरण तो कामयाबी स्वत: ही करती है |
मृतकों की आत्मा के प्रति मेरे मन में गहरी सहानभुति है |उनकी शोकसभाओं में जाकर आंसू बहाने का जब भी मौका मिलता है ,मैं ज़रूर जाता हूँ|मौखिक संवेदनाओं के मेरे भीतर अथाह धनसंपदा से भरे पद्मनाभ मंदिर सरीखे अनेक ज्ञात अज्ञात तहखाने हैं ,इनमें से चाहे जितना उलीचूं ,ये कभी रीतने वाले नहीं| मैं तो संत कबीर का हामी हूँ –न काहू से दोस्ती ,न काहू से बैर |मैं ठहरा तटस्थ दृष्टा ,शोकाकुल लोगों के साथ खड़ा हुआ तो उनके कांधे पर सिर रख कर रो लिया ,कर्मवीर शूटर दिखा तो उसके बाहुबल की शान में काढ दिए कसीदे |मेरे शहर में सुरक्षित बने रहने के एकमात्र उपाय भी तो यही है |

निर्मल गुप्त

No comments: